Showing posts with label Types. Show all posts
Showing posts with label Types. Show all posts

Friday, October 12, 2018

फर्स्ट एड बॉक्स क्या है, प्रकार, लिस्ट, महत्व और रखने का स्थान (What is First Aid Box, Types, List Uses)

Leave a Comment

फर्स्ट एड बॉक्स क्या है, प्रकार, लिस्ट, महत्व और रखने का स्थान (What is First Aid Box, Types, List Uses)

What is First Aid Box, Types, List Uses

First Aid Box in hindi फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) या प्राथमिक चिकित्सा किट प्रत्येक व्यक्ति के लिए अति आवश्यक होता है। प्रतिदिन के काम काज के दौरान या यात्रा के दौरान अचानक चोट लगना तथा स्वास्थ्य में गड़बड़ी एक आम बात है। इस स्थिति में रक्त बहने, घाव होने, घाव को संक्रमण से बचाने के लिए तथा सामान्य वायरल संक्रमण से बचने के लिए फर्स्ट एड बॉक्स बहुत उपयोगी हो जाता है। अतः इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि, फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या क्या होता है, फर्स्ट ऐड बॉक्स आइटम्स नेम्स फर्स्ट एड बॉक्स को घर पर कैसे बनाया और उपयोग किया जा सकता है।

1. प्राथमिक उपचार कब दिया जाता है - When is the primary treatment given.

2. फर्स्ट एड बॉक्स क्या है - What is the first Aid box.

3. फर्स्ट एड बॉक्स के प्रकार - Types of First Aid Box.

4. फर्स्ट एड बॉक्स घर के लिए - First Aid Box for Home.

5. यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट - First Aid kit for travel.

6. फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या होता है - First Aid box Items list.

7. हाउ टू मेक फर्स्ट एड बॉक्स - How To Make First Aid Box.

8. फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग कैसे करें - How To Use First Aid Box.

9. फर्स्ट एड बॉक्स का महत्व और फायदे - The Importance and Benefits of First Aid Box.

10. फर्स्ट एड बॉक्स कहां रखें - Where to Put First Aid Box.


प्राथमिक उपचार कब दिया जाता है| (When is the primary treatment given):

When is the primary treatment given


प्राथमिक चिकित्सा (first aid) किसी बीमारी या चोट से पीड़ित व्यक्ति को दी जाने वाली सहायता है, यह घटना के तुरंत बाद प्रदान की जाती है। प्राथमिक चिकित्सा के दौरान डॉक्टर की अनुपस्थिति में चोट या बीमारी जैसे कि छोटे घाव, मामूली चोटों और फफोले के मामले में उपचार किया जाता है। अतः कह सकते है कि प्राथमिक चिकित्सा, दुर्घटना ग्रस्त या बीमार व्यक्ति को डॉक्टर के न आने तक दी जाने वाली उपचार सहायता है।

फर्स्ट एड बॉक्स क्या है| (What is the First Aid Box):


What is the First Aid Box

प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) प्राथमिक उपचार प्राप्त करने के लिए सामान्य चिकित्सकीय सामग्री का एक बॉक्स होता है, जिसे घर पर, ऑफिस में एवं यात्रा के दौरान अपने साथ रखा जा सकता है। इसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से ले जाया जा सकता है।घर में बच्चों को चोट लगने या किसी भी प्रकार की दुर्घटनाओं के समय प्राथमिक उपचार प्रदान करने के लिए अच्छी तरह से तैयार फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) का होना बहुत जरूरी होता है। फर्स्ट एड बॉक्स को सही तरह से तैयार करने पर चिकित्सकीय आपातकाल की स्थिति को संभालने में बहुत मदद मिलती है। अतः प्रत्येक व्यक्ति को अपने घर में चिकित्सकीय बॉक्स रखना चाहिए। तथा पिकनिक या परिवार के साथ छुट्टियों पर जाने के दौरान फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) को साथ में ले जाना चाहिए।फर्स्ट एड बॉक्स (चिकित्सा बॉक्स) को अपने घर में रखने के साथ-साथ परिवार के सम्पूर्ण सदस्यों को इसका पूर्ण तरीके से इस्तेमाल करना आना चाहिए। तथा बॉक्स में सभी आवश्यक सामग्री उपलब्ध होना चाहिए।

फर्स्ट एड बॉक्स के प्रकार(Types of First Aid Box):

Types of First Aid Box


मुख्य रूप से फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid box) के दो प्रकार होते है।
  • घर के लिए प्राथमिक उपचार पेटी (Home First Aid box)
  • यात्रा के लिए प्राथमिक उपचार पेटी (Travel First Aid box)
फर्स्ट एड बॉक्स घर के लिए(First Aid Box for Home):


First Aid Box for Home


होम फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग आमतौर पर घर पर मामूली चोटों या दर्दों का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता हैं। इसके अंतर्गत निम्न इलाज शामिल किए जा सकते हैं:
  1.  जली हुई त्वचा का इलाज करने के लिए
  2.  मोच (Sprains)
  3. कट लग जाने का
  4. खरोंच
  5. थकान या तनाव
  6. घाव
  7. कीड़े के काटने या डंक मारने पर इलाज किया जाता है।
यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट( First Aid Kit for Travel):


First Aid Kit for Travel


यात्रा के दौरान उपयोग की जाने वाली फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) अधिक व्यापक होनी चाहिए, क्योंकि घटना स्थल पर शायद दवा की दुकान प्राप्त न हो सके। व्यक्तिगत सामान्य चिकित्सा वस्तुओं के अतिरिक्त, एक यात्रा प्राथमिक चिकित्सा पेटी में वायरल श्वसन संक्रमण (viral respiratory infections) के सामान्य लक्षणों को कम करने में मदद करने के लिए उपयोगी सामग्री उपस्थित होनी चाहिए। इसके अंतर्गत निम्न समस्याओं से सम्बंधित चिकित्सकीय सामग्री उपलब्ध होना चाहिए:
  1. खांसी की दवा
  2. नाक बंद (Nasal congestion)
  3. गले में खरास (Sore throat)
  4. बुखार
  5. त्वचा संबंधी समस्याएं
  6. हल्का दर्द
  7. एलर्जी
  8. घाव
  9. जठरांत्र समस्याएं  (Gastrointestinal problems)
फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या क्या होता है(First Aid Box Items List):

First Aid Box Items List


एक आदर्श फर्स्ट एड बॉक्स या प्राथमिक चिकित्सा पेटी को सही तरीके से तैयार करने के लिए इसमें  निम्न उपचार सामग्री होना चहिये:
  1. लोचदार पट्टी (elastic bandage)
  2. चिपकने वाला टेप
  3. तेज कैंची
  4. थर्मामीटर
  5. साबुन
  6. सनस्क्रीन (Sunscreen)
  7. कैलामाइन लोशन (calamine lotion)
  8. पट्टी (splint)
  9. एंटीसेप्टिक वाइप्स (antiseptic wipes)
  10. प्रतिजैविक मलहम (antibiotic ointment)
  11. एंटीसेप्टिक घोल (जैसे हाइड्रोजन पेरोक्साइड)
  12. हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम (1%) (hydrocortisone cream 1%)
  13. एस्पिरिन – हल्के दर्द, के लिए
  14. एसिटामिनोफेन और इबुप्रोफेन दवाएं
  15. आपातकालीन फोन नंबरों की एक सूची
  16. विभिन्न आकारों की चिपकने वाली पट्टियां (चिकित्सकीय बैंड)
  17. चिमटी
  18. सेफ्टी पिंस
  19. घाव साफ करने के लिए अल्कोहल या एथिल अल्कोहल
  20. प्लास्टिक दस्ताने (कम से कम 2 जोड़े)
  21. फ्लैशलाइट और अतिरिक्त बैटरी
  22. गर्म रजाई या कम्बल
फर्स्ट ऐड बॉक्स कैसे तैयार करते है(How To Make First Aid Box):

How To Make First Aid Box
कोई भी व्यक्ति दवाइयों की दुकान से या स्थानीय रेड क्रॉस कार्यालय से फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) खरीद सकता है, या स्वयं घर पर निर्मित कर सकता है। जो व्यक्ति घर पर प्राथमिक उपचार बॉक्स (first aid box) बनाना चाहते हैं, तो किसी ऐसे पात्र का उपयोग करना चाहिए जो आकर में बड़ा, मजबूत, एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने में सुगम और खोलने में आसान हो। इस कार्य के लिए प्लास्टिक के बॉक्स या कंटेनर को सर्वोत्तम माना जा सकता हैं, क्योंकि वह वजन में हल्के, हैंडल युक्त, पर्याप्त जगह वाले और विभिन्न खंडों के रूप में प्राप्त किये जा सकते हैं। फर्स्ट एड बॉक्स बनाने के लिए उसमे ऊपर बताई गई चीजों को शामिल किया जाना चाहिए आप अपनी सुबिधा अनुसार प्राथमिक चिकित्सा किट की चीजों को कम या ज्यादा कर सकते हैं।

फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग कैसे करें( How To Use First Aid Box)

How To Use First Aid Box


प्राथमिक चिकित्सा किट (first aid box) का उपयोग करने के लिए निम्न बातों पर ध्यान दें:
  1. बॉक्स में उपस्थित सभी प्रकार की दवाओं का उपयोग किस स्थिति में तथा कैसे करना हैं, इसकी जानकारी रखें।
  2. बॉक्स (first aid box) का उपयोग करने के लिए अपने परिवार के प्रत्येक व्यक्ति को प्रशिक्षित करें।
  3. किसी व्यक्ति के शारीरिक तरल पदार्थ से खुद को बचाने के लिए लेटेक्स दस्ताने (latex gloves) का उपयोग करें।
  4. यदि किसी व्यक्ति को घाव से रक्त बह रहा है तो उसे रोकने के लिए बेंडेज या पट्टी का प्रयोग करें।
  5. वर्ष में दो बार फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) सामग्री की अच्छी तरह से जांच करें, दवाओं के समाप्त होने पर उनकी पूर्ति तुरंत करें।
  6. अपने फर्स्ट एड बॉक्स में आवश्यक फ़ोन नंबर की लिस्ट जरूर रखें, जैसे – जहर नियंत्रण केंद्र, आदि।
  7. घाव का उपचार करने से पहले त्वचा या घाव को अच्छी तरह से साफ करें। इसके लिए अल्कोहल या एथिल अल्कोहल का उपयोग करें।
  8. बॉक्स को उचित स्थान पर रखें, जिससे कि आसानी से उपलब्ध हो सके।
फर्स्ट एड बॉक्स का महत्व और फायदे (The Importance and Benefits of First Aid Box):

The Importance and Benefits of First Aid Box

प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) आज के समय में बहुत अधिक आवश्यक और फायदेमंद प्राथमिक उपचार व्यवस्था है।   आइये जानते है प्राथमिक चिकित्सा किट के फायदे क्या हैं
  1. छोटी चोटों को बड़ा रूप लेने से रोकने के लिए
  2. आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचने के लिए
  3. समय पर स्वास्थ्य सम्बन्धी चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए
  4. मन को शांत रखने के लिए, सामान्य दर्द को दूर करने के लिए
  5. दुकान पर या ऑफिस में कर्मचारियों या लोगों को प्राथमिक चिकित्सा (first aid)उपलब्ध कराने के लिए
  6. घर पर मामूली घाव , खरोंच, जलन आदि के प्राथमिक उपचार के लिए उपयोगी
  7. यात्रा के दौरान अचानक प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए भी फर्स्ट ऐड बॉक्स (first aid box) अतिआवश्यक है।
  8. अपने बच्चों के लिए फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box)बहुत आवश्यक होता है, क्योंकि बच्चों को चोट लगना स्वाभाविक बात होती है।
  9. सर पर चोट लगने, किसी कीड़े के काटने, त्वचा आग से जलने एवं अन्य समस्याओं के तुरंत इलाज के लिए फर्स्ट एड बॉक्स महत्वपूर्ण होता है।
फर्स्ट एड बॉक्स कहां रखें(Where to Put First Aid Box):

Where to Put First Aid Box


घर की प्राथमिक चिकित्सा किट (होम फर्स्ट एड बॉक्स) को रखने के लिए रसोईघर सबसे अच्छी जगह मानी जाती है। क्योंकि अधिकतर प्राथमिक उपचार की आवश्यकता रसोईघर में ही पड़ती है। बाथरूम इसके लिए उपरोक्त स्थान नहीं है क्योंकि बहुत अधिक आर्द्रता या नमी उपस्थिति या दवाओं के शेल्फ जीवन (समाप्ति तिथि) कम कम हो सकता है।यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट उपचार बॉक्स (यात्रा प्राथमिक चिकित्सा बॉक्स) घर से दूर यात्रा पर जाने के लिए चिकित्सा प्रदान करने के लिए होता है। इसे यात्रा पर जाने के दौरान अपने सूटकेस, बैकपैक (बैकपैक) या सूखे बैग (सूखे बैग) में रख सकते हैं।फर्स्ट ऐड बॉक्स एक कम रोशनी वाले वातावरण में या बैग के अंदर रखना चाहिए। इसके अतिरिक्त व्यक्ति जो स्थान पर अपना अधिक समय व्यतीत करते हैं, उस स्थान पर बॉक्स रखना उचित होता है।

जल जाने पर प्राथमिक उपचार क्या करें और क्या ना करें(What to do and what not to do first aid on burning):

What to do and what not to do first aid on burning

आग से जलने के कारण त्वचा पर प्रभावित जगह लाल हो जाती है, और ज्यादा जलने पर फफोले आ जाते हैं। भाप (वाष्प) से जलने के कारण भी ऐसा होता है। जलने के कारण प्रभावित हिस्से में असहनीय जलन होती है। यदि जलन गंभीर है तो मरीज को तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए। यदि लक्षण गंभीर नहीं है तो जलने का घर पर ही प्राथमिक उपचार किया जा सकता है, और बाद में आवश्यकता पड़ने पर चिकित्सक के पास ले जा सकते हैं। आज के इस लेख के माध्यम से आप जलने के प्राथमिक उपचार के बारे में जानेंगे।

जलने पर क्या करें(What to do on burn):

सादा पानी जलने का घरेलू उपचार है(Simple home remedies for burning is Water): यदि आप गंभीर रूप से नहीं जले हो तो आप जले हुए भाग पर सादे पानी की धार डालते रहते हैं जिससे जलन में तुरंत आराम मिलता है।जलने का प्राथमिक उपचार आलू से(Primary treatment of Burning from potato): जले हुए भाग पर आलू को बारीक़ पीसकर मोटी परत में लगाने से जलन में आराम मिलता है, और यदि तुरंत ऐसा उपचार कर लिया जाये तो फफोले भी नहीं आते हैं।जलने से हुए छाले का इलाज एलोवेरा से(Burning of blisters from Aloe vera): ग्वारपाठा में भी जलन कम करने के गुण होते हैं जले हुए भाग पर तुरंत ग्वारपाठा (एलोवेरा) का गूदा लगाने से आराम मिलता है, और लगातार लगाते रहने से जलने के निशान नहीं पड़ते हैं और जल्दी आराम मिलता है। अगर ग्वारपाठा नहो तो बाजार में Alovera gel उपलब्ध हैं।शक्कर के पानी से उपचार(Treatment with sugar water): शक्कर को पानी में घोलकर जले हुए भाग पर डालने से जलन कम हो जाती है क्योंकि यह घोल ठंडा होता है|जलने का उपचार शहद से(Burning Treatment From Honey): शहद में प्राकृतिक एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण पाया जाता है और  ठंडाई भी देता है और बैक्टीरियल/ फंगल इन्फेक्शन से रोकता है इसलिए जले हुए भाग पर शहद लगाना चाहिए। जलने पर करें दूध का उपयोग(Use of Milk for Burns): दूध में जलन कम करने का गुण पाया जाता है। अतः जले हुए भाग पर सर्वप्रथम दूध का उपयोग किया जाना चाहिए।दूध से जलने पर उपचार दही से(Use of curd for Burns): दही में घाव को जल्दी से भरने का गुण पाया जाता है, जिससे जलने पर दही का उपयोग करना चाहिए। दही की प्रकृति ठंडी होती है, जिससे यह जलन को कम करता है।

जलने पर क्या नहीं करना चाहिए (What Not to do on Burn):जलने पर क्या नहीं करना चाहिए इसका भी आपको पता होना चाहिए, जिससे जलने पर आप कुछ ऐसा न करें जिससे बाद में आपको और समस्याओं का सामना करना पड़े।

सूरज की तेज रोशनी से बचाना चाहिए(Avoid the sun's bright light): शरीर का जो भाग जला है उसको डायरेक्ट सूरज की तेज रोशनी (sunlight) से बचाया जाना चाहिए, क्योंकि सूर्य प्रकाश से जलन में वृद्धि हो सकती है। जल जाने पर ना करें तेल का उपयोग(Do not use oil for burning): जले हुए भाग पर कभी भी किसी भी प्रकार का तेल नहीं लगाना चाहिए,  क्योंकि तेल लगाने से कोई लाभ नहीं होता है, बल्कि तेल लगाने से धुल चिपकने लगती है।जलने पर मक्खन का उपयोग नहीं करना चाहिए(Butter should not be used on burning): जिस भाग पर जले हुए हो वहां मक्खन का उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि मक्खन गर्मी को बढ़ता है।टूथपेस्ट का उपयोग जलने पर नहीं करना चाहिए(Use of toothpaste should not be used): कुछ लोग मानते हैं कि जले हुए भाग पर टूथपेस्ट लगाने से जलन कम होती है, किन्तु ऐसा बिलकुल भी नहीं है। टूथपेस्ट लगाने से दर्द और बढ़ जाता है। जलने पर तुरंत नहीं लगाना चाहिए बर्फ(Ice should not be taken immediately after burning): जले हुए भाग पर बर्फ या ठन्डे पानी का उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से जले हुए भाग में और अधिक जलन हो सकती है, और चमड़ी भी निकल सकती है इसलिए जले हुए भाग में बर्फ या ठन्डे पानी का उपयोग नहीं करना चाहिए।

What is First Aid Box, Types, List Uses



First Aid Box in hindi फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) या प्राथमिक चिकित्सा किट प्रत्येक व्यक्ति के लिए अति आवश्यक होता है। प्रतिदिन के काम काज के दौरान या यात्रा के दौरान अचानक चोट लगना तथा स्वास्थ्य में गड़बड़ी एक आम बात है। इस स्थिति में रक्त बहने, घाव होने, घाव को संक्रमण से बचाने के लिए तथा सामान्य वायरल संक्रमण से बचने के लिए फर्स्ट एड बॉक्स बहुत उपयोगी हो जाता है। अतः इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि, फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या क्या होता है, फर्स्ट ऐड बॉक्स आइटम्स नेम्स फर्स्ट एड बॉक्स को घर पर कैसे बनाया और उपयोग किया जा सकता है।



1. प्राथमिक उपचार कब दिया जाता है - When is the primary treatment given.

2. फर्स्ट एड बॉक्स क्या है - What is the first Aid box.

3. फर्स्ट एड बॉक्स के प्रकार - Types of First Aid Box.

4. फर्स्ट एड बॉक्स घर के लिए - First Aid Box for Home.

5. यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट - First Aid kit for travel.

6. फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या होता है - First Aid box Items list.

7. हाउ टू मेक फर्स्ट एड बॉक्स - How To Make First Aid Box.

8. फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग कैसे करें - How To Use First Aid Box.

9. फर्स्ट एड बॉक्स का महत्व और फायदे - The Importance and Benefits of First Aid Box.

10. फर्स्ट एड बॉक्स कहां रखें - Where to Put First Aid Box.

प्राथमिक उपचार कब दिया जाता है| (When is the primary treatment given):

When is the primary treatment given


प्राथमिक चिकित्सा (first aid) किसी बीमारी या चोट से पीड़ित व्यक्ति को दी जाने वाली सहायता है, यह घटना के तुरंत बाद प्रदान की जाती है। प्राथमिक चिकित्सा के दौरान डॉक्टर की अनुपस्थिति में चोट या बीमारी जैसे कि छोटे घाव, मामूली चोटों और फफोले के मामले में उपचार किया जाता है। अतः कह सकते है कि प्राथमिक चिकित्सा, दुर्घटना ग्रस्त या बीमार व्यक्ति को डॉक्टर के न आने तक दी जाने वाली उपचार सहायता है।

फर्स्ट एड बॉक्स क्या है| (What is the First Aid Box):


What is the First Aid Box

प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) प्राथमिक उपचार प्राप्त करने के लिए सामान्य चिकित्सकीय सामग्री का एक बॉक्स होता है, जिसे घर पर, ऑफिस में एवं यात्रा के दौरान अपने साथ रखा जा सकता है। इसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से ले जाया जा सकता है।घर में बच्चों को चोट लगने या किसी भी प्रकार की दुर्घटनाओं के समय प्राथमिक उपचार प्रदान करने के लिए अच्छी तरह से तैयार फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) का होना बहुत जरूरी होता है। फर्स्ट एड बॉक्स को सही तरह से तैयार करने पर चिकित्सकीय आपातकाल की स्थिति को संभालने में बहुत मदद मिलती है। अतः प्रत्येक व्यक्ति को अपने घर में चिकित्सकीय बॉक्स रखना चाहिए। तथा पिकनिक या परिवार के साथ छुट्टियों पर जाने के दौरान फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid Box) को साथ में ले जाना चाहिए।फर्स्ट एड बॉक्स (चिकित्सा बॉक्स) को अपने घर में रखने के साथ-साथ परिवार के सम्पूर्ण सदस्यों को इसका पूर्ण तरीके से इस्तेमाल करना आना चाहिए। तथा बॉक्स में सभी आवश्यक सामग्री उपलब्ध होना चाहिए।

फर्स्ट एड बॉक्स के प्रकार(Types of First Aid Box):

Types of First Aid Box


मुख्य रूप से फर्स्ट एड बॉक्स (First Aid box) के दो प्रकार होते है।
  • घर के लिए प्राथमिक उपचार पेटी (Home First Aid box)
  • यात्रा के लिए प्राथमिक उपचार पेटी (Travel First Aid box)
फर्स्ट एड बॉक्स घर के लिए(First Aid Box for Home):


First Aid Box for Home


होम फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग आमतौर पर घर पर मामूली चोटों या दर्दों का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता हैं। इसके अंतर्गत निम्न इलाज शामिल किए जा सकते हैं:
  1. जली हुई त्वचा का इलाज करने के लिए
  2. मोच (Sprains)
  3. कट लग जाने का
  4. खरोंच
  5. थकान या तनाव
  6. घाव
  7. कीड़े के काटने या डंक मारने पर इलाज किया जाता है।
यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट( First Aid Kit for Travel):


First Aid Kit for Travel


यात्रा के दौरान उपयोग की जाने वाली फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) अधिक व्यापक होनी चाहिए, क्योंकि घटना स्थल पर शायद दवा की दुकान प्राप्त न हो सके। व्यक्तिगत सामान्य चिकित्सा वस्तुओं के अतिरिक्त, एक यात्रा प्राथमिक चिकित्सा पेटी में वायरल श्वसन संक्रमण (viral respiratory infections) के सामान्य लक्षणों को कम करने में मदद करने के लिए उपयोगी सामग्री उपस्थित होनी चाहिए। इसके अंतर्गत निम्न समस्याओं से सम्बंधित चिकित्सकीय सामग्री उपलब्ध होना चाहिए:
  1. खांसी की दवा
  2. नाक बंद (Nasal congestion)
  3. गले में खरास (Sore throat)
  4. बुखार
  5. त्वचा संबंधी समस्याएं
  6. हल्का दर्द
  7. एलर्जी
  8. घाव
  9. जठरांत्र समस्याएं  (Gastrointestinal problems)
फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या क्या होता है(First Aid Box Items List):

First Aid Box Items List


एक आदर्श फर्स्ट एड बॉक्स या प्राथमिक चिकित्सा पेटी को सही तरीके से तैयार करने के लिए इसमें  निम्न उपचार सामग्री होना चहिये:
  1. लोचदार पट्टी (elastic bandage)
  2. चिपकने वाला टेप
  3. तेज कैंची
  4. थर्मामीटर
  5. साबुन
  6. सनस्क्रीन (Sunscreen)
  7. कैलामाइन लोशन (calamine lotion)
  8. पट्टी (splint)
  9. एंटीसेप्टिक वाइप्स (antiseptic wipes)
  10. प्रतिजैविक मलहम (antibiotic ointment)
  11. एंटीसेप्टिक घोल (जैसे हाइड्रोजन पेरोक्साइड)
  12. हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम (1%) (hydrocortisone cream 1%)
  13. एस्पिरिन – हल्के दर्द, के लिए
  14. एसिटामिनोफेन और इबुप्रोफेन दवाएं
  15. आपातकालीन फोन नंबरों की एक सूची
  16. विभिन्न आकारों की चिपकने वाली पट्टियां (चिकित्सकीय बैंड)
  17. चिमटी
  18. सेफ्टी पिंस
  19. घाव साफ करने के लिए अल्कोहल या एथिल अल्कोहल
  20. प्लास्टिक दस्ताने (कम से कम 2 जोड़े)
  21. फ्लैशलाइट और अतिरिक्त बैटरी
  22. गर्म रजाई या कम्बल
फर्स्ट ऐड बॉक्स कैसे तैयार करते है(How To Make First Aid Box):

How To Make First Aid Box

कोई भी व्यक्ति दवाइयों की दुकान से या स्थानीय रेड क्रॉस कार्यालय से फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) खरीद सकता है, या स्वयं घर पर निर्मित कर सकता है। जो व्यक्ति घर पर प्राथमिक उपचार बॉक्स (first aid box) बनाना चाहते हैं, तो किसी ऐसे पात्र का उपयोग करना चाहिए जो आकर में बड़ा, मजबूत, एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने में सुगम और खोलने में आसान हो। इस कार्य के लिए प्लास्टिक के बॉक्स या कंटेनर को सर्वोत्तम माना जा सकता हैं, क्योंकि वह वजन में हल्के, हैंडल युक्त, पर्याप्त जगह वाले और विभिन्न खंडों के रूप में प्राप्त किये जा सकते हैं। फर्स्ट एड बॉक्स बनाने के लिए उसमे ऊपर बताई गई चीजों को शामिल किया जाना चाहिए आप अपनी सुबिधा अनुसार प्राथमिक चिकित्सा किट की चीजों को कम या ज्यादा कर सकते हैं।

फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग कैसे करें( How To Use First Aid Box)

How To Use First Aid Box


प्राथमिक चिकित्सा किट (first aid box) का उपयोग करने के लिए निम्न बातों पर ध्यान दें:
  1. बॉक्स में उपस्थित सभी प्रकार की दवाओं का उपयोग किस स्थिति में तथा कैसे करना हैं, इसकी जानकारी रखें।
  2. बॉक्स (first aid box) का उपयोग करने के लिए अपने परिवार के प्रत्येक व्यक्ति को प्रशिक्षित करें।
  3. किसी व्यक्ति के शारीरिक तरल पदार्थ से खुद को बचाने के लिए लेटेक्स दस्ताने (latex gloves) का उपयोग करें।
  4. यदि किसी व्यक्ति को घाव से रक्त बह रहा है तो उसे रोकने के लिए बेंडेज या पट्टी का प्रयोग करें।
  5. वर्ष में दो बार फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) सामग्री की अच्छी तरह से जांच करें, दवाओं के समाप्त होने पर उनकी पूर्ति तुरंत करें।
  6. अपने फर्स्ट एड बॉक्स में आवश्यक फ़ोन नंबर की लिस्ट जरूर रखें, जैसे – जहर नियंत्रण केंद्र, आदि।
  7. घाव का उपचार करने से पहले त्वचा या घाव को अच्छी तरह से साफ करें। इसके लिए अल्कोहल या एथिल अल्कोहल का उपयोग करें।
  8. बॉक्स को उचित स्थान पर रखें, जिससे कि आसानी से उपलब्ध हो सके।
फर्स्ट एड बॉक्स का महत्व और फायदे (The Importance and Benefits of First Aid Box):

The Importance and Benefits of First Aid Box

प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box) आज के समय में बहुत अधिक आवश्यक और फायदेमंद प्राथमिक उपचार व्यवस्था है।   आइये जानते है प्राथमिक चिकित्सा किट के फायदे क्या हैं
  1. छोटी चोटों को बड़ा रूप लेने से रोकने के लिए
  2. आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचने के लिए
  3. समय पर स्वास्थ्य सम्बन्धी चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए
  4. मन को शांत रखने के लिए, सामान्य दर्द को दूर करने के लिए
  5. दुकान पर या ऑफिस में कर्मचारियों या लोगों को प्राथमिक चिकित्सा (first aid)उपलब्ध कराने के लिए
  6. घर पर मामूली घाव , खरोंच, जलन आदि के प्राथमिक उपचार के लिए उपयोगी
  7. यात्रा के दौरान अचानक प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए भी फर्स्ट ऐड बॉक्स (first aid box) अतिआवश्यक है।
  8. अपने बच्चों के लिए फर्स्ट एड बॉक्स (first aid box)बहुत आवश्यक होता है, क्योंकि बच्चों को चोट लगना स्वाभाविक बात होती है।
  9. सर पर चोट लगने, किसी कीड़े के काटने, त्वचा आग से जलने एवं अन्य समस्याओं के तुरंत इलाज के लिए फर्स्ट एड बॉक्स महत्वपूर्ण होता है।
फर्स्ट एड बॉक्स कहां रखें(Where to Put First Aid Box):

Where to Put First Aid Box


घर की प्राथमिक चिकित्सा किट (होम फर्स्ट एड बॉक्स) को रखने के लिए रसोईघर सबसे अच्छी जगह मानी जाती है। क्योंकि अधिकतर प्राथमिक उपचार की आवश्यकता रसोईघर में ही पड़ती है। बाथरूम इसके लिए उपरोक्त स्थान नहीं है क्योंकि बहुत अधिक आर्द्रता या नमी उपस्थिति या दवाओं के शेल्फ जीवन (समाप्ति तिथि) कम कम हो सकता है।यात्रा के लिए प्राथमिक चिकित्सा किट उपचार बॉक्स (यात्रा प्राथमिक चिकित्सा बॉक्स) घर से दूर यात्रा पर जाने के लिए चिकित्सा प्रदान करने के लिए होता है। इसे यात्रा पर जाने के दौरान अपने सूटकेस, बैकपैक (बैकपैक) या सूखे बैग (सूखे बैग) में रख सकते हैं।फर्स्ट ऐड बॉक्स एक कम रोशनी वाले वातावरण में या बैग के अंदर रखना चाहिए। इसके अतिरिक्त व्यक्ति जो स्थान पर अपना अधिक समय व्यतीत करते हैं, उस स्थान पर बॉक्स रखना उचित होता है।

जल जाने पर प्राथमिक उपचार क्या करें और क्या ना करें(What to do and what not to do first aid on burning):

What to do and what not to do first aid on burning


आग से जलने के कारण त्वचा पर प्रभावित जगह लाल हो जाती है, और ज्यादा जलने पर फफोले आ जाते हैं। भाप (वाष्प) से जलने के कारण भी ऐसा होता है। जलने के कारण प्रभावित हिस्से में असहनीय जलन होती है। यदि जलन गंभीर है तो मरीज को तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए। यदि लक्षण गंभीर नहीं है तो जलने का घर पर ही प्राथमिक उपचार किया जा सकता है, और बाद में आवश्यकता पड़ने पर चिकित्सक के पास ले जा सकते हैं। आज के इस लेख के माध्यम से आप जलने के प्राथमिक उपचार के बारे में जानेंगे।

जलने पर क्या करें(What to do on burn):

सादा पानी जलने का घरेलू उपचार है(Simple home remedies for burning is Water): यदि आप गंभीर रूप से नहीं जले हो तो आप जले हुए भाग पर सादे पानी की धार डालते रहते हैं जिससे जलन में तुरंत आराम मिलता है।जलने का प्राथमिक उपचार आलू से(Primary treatment of Burning from potato): जले हुए भाग पर आलू को बारीक़ पीसकर मोटी परत में लगाने से जलन में आराम मिलता है, और यदि तुरंत ऐसा उपचार कर लिया जाये तो फफोले भी नहीं आते हैं।जलने से हुए छाले का इलाज एलोवेरा से(Burning of blisters from Aloe vera): ग्वारपाठा में भी जलन कम करने के गुण होते हैं जले हुए भाग पर तुरंत ग्वारपाठा (एलोवेरा) का गूदा लगाने से आराम मिलता है, और लगातार लगाते रहने से जलने के निशान नहीं पड़ते हैं और जल्दी आराम मिलता है। अगर ग्वारपाठा नहो तो बाजार में Alovera gel उपलब्ध हैं।शक्कर के पानी से उपचार(Treatment with sugar water): शक्कर को पानी में घोलकर जले हुए भाग पर डालने से जलन कम हो जाती है क्योंकि यह घोल ठंडा होता है|जलने का उपचार शहद से(Burning Treatment From Honey): शहद में प्राकृतिक एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण पाया जाता है और  ठंडाई भी देता है और बैक्टीरियल/ फंगल इन्फेक्शन से रोकता है इसलिए जले हुए भाग पर शहद लगाना चाहिए। जलने पर करें दूध का उपयोग(Use of Milk for Burns): दूध में जलन कम करने का गुण पाया जाता है। अतः जले हुए भाग पर सर्वप्रथम दूध का उपयोग किया जाना चाहिए।दूध से जलने पर उपचार दही से(Use of curd for Burns): दही में घाव को जल्दी से भरने का गुण पाया जाता है, जिससे जलने पर दही का उपयोग करना चाहिए। दही की प्रकृति ठंडी होती है, जिससे यह जलन को कम करता है।

जलने पर क्या नहीं करना चाहिए (What Not to do on Burn):जलने पर क्या नहीं करना चाहिए इसका भी आपको पता होना चाहिए, जिससे जलने पर आप कुछ ऐसा न करें जिससे बाद में आपको और समस्याओं का सामना करना पड़े।

सूरज की तेज रोशनी से बचाना चाहिए(Avoid the sun's bright light): शरीर का जो भाग जला है उसको डायरेक्ट सूरज की तेज रोशनी (sunlight) से बचाया जाना चाहिए, क्योंकि सूर्य प्रकाश से जलन में वृद्धि हो सकती है। जल जाने पर ना करें तेल का उपयोग(Do not use oil for burning): जले हुए भाग पर कभी भी किसी भी प्रकार का तेल नहीं लगाना चाहिए,  क्योंकि तेल लगाने से कोई लाभ नहीं होता है, बल्कि तेल लगाने से धुल चिपकने लगती है।जलने पर मक्खन का उपयोग नहीं करना चाहिए(Butter should not be used on burning): जिस भाग पर जले हुए हो वहां मक्खन का उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि मक्खन गर्मी को बढ़ता है।टूथपेस्ट का उपयोग जलने पर नहीं करना चाहिए(Use of toothpaste should not be used): कुछ लोग मानते हैं कि जले हुए भाग पर टूथपेस्ट लगाने से जलन कम होती है, किन्तु ऐसा बिलकुल भी नहीं है। टूथपेस्ट लगाने से दर्द और बढ़ जाता है। जलने पर तुरंत नहीं लगाना चाहिए बर्फ(Ice should not be taken immediately after burning): जले हुए भाग पर बर्फ या ठन्डे पानी का उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से जले हुए भाग में और अधिक जलन हो सकती है, और चमड़ी भी निकल सकती है इसलिए जले हुए भाग में बर्फ या ठन्डे पानी का उपयोग नहीं करना चाहिए।



Read More